Prevention of anemia

Prevention of anemia 

 

एनीमिया का अर्थ है शरीर में खून की कमी ।हमारे शरीर में हीमोग्लोबिन ऐसा तत्व है जो शरीर में खून की मात्रा बताता है। पुरुष में इसकी मात्रा 12- 16 फ़ीसदी वह महिला में 11- 14 फ़ीसदी होनी चाहिए। एनिमिया तब होता है जब हमारे खून में लाल रक्त कणों RBC या कोशिकाओं के नष्ट होने की दर उसके निर्माण की दर से अधिक हो। किशोरावस्था और मोनोपॉज की आयु के बीच एनिमिया सबसे अधिक होता है। यह गर्भवती व गर्भस्थ शिशु में अधिक पाया जाता है। क्योंकि गर्भवती उतनी मात्रा में लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण नहीं कर पाती। इसके मुख्य लक्षण है। त्वचा का सफेद होना, जीभ, नाखून एवं पलकों के अंदर सफेदी ,कमजोरी एवं अधिक थकावट, चक्कर आना, बेहोश होना ,सांस फूलना ,हृदय गति तेज होना, चेहरे एवं पैरों में सूजन।

 

एनीमिया से बचने का उपाय

 

फायटेट युक्त खाद्य पदार्थ जैसे फलियों और साबुत अनाज से आयरन का अवशोषण करना मुश्किल होता है। अधिक कॉफी, ग्रीन टी ,काली चाय से भी आयरन के अवशोषण की समस्या हो सकती है। जिन लोगों में फोलेट की कमी के कारण एनीमिया हुआ उन्हें शराब का सेवन को पूरी तरह बंद कर देना चाहिए।

या शरीर में फोलेट का अवशोषण नहीं होने देता है।प्रकृति खाद्य पदार्थ आयरन एवं विटामिन का समृद्ध स्त्रोत्र है। आयरन और विटामिन से भरपूर खाद्य पदार्थ एनीमिया से बचाव के लिए सबसे बेहतर होता है। यह शरीर में आयरन का स्तर को बढ़ाने में मदद करता है पालक एक पत्तेदार सब्जी है जो आयरन, कैल्शियम ,फाइबर और आकजलेट से भरपूर है। पालक हमारे प्रतिरक्षा तंत्र को बेहतर बनाने और एनीमिया के लक्षणों को कम करने में मदद करता है। आपने आहार में पालक को शामिल करने से शरीर में रक्त संचार बढ़ता है।टमाटर में काफी मात्रा में विटामिन सी होता है जो आयरन के अवशोषण में मदद करता है। इसलिए शरीर में आयरन की मात्रा को बढ़ाने के लिए कच्चे टमाटर का सेवन प्रतिदिन करना चाहिए। चुकंदर आयरन का प्रमुख स्रोत है या शरीर में लाल रक्त कणों की संख्या को भी बढ़ाता है। लाल मांस से भी आयरन का अच्छा स्रोत है। या पशु खाद्य पदार्थों में पाया जाता है जो शरीर में शीघ्र अवशोषित हो जाता है। इसलिए एनीमिया पीड़ित व्यक्ति को यकृत किडनी औरहृदय को सुरक्षित रखने के लिए लाल मास का उपयोग करना चाहिए। अंडों में आयरन का अभाव होता है। लेकिन यह कोशिकाओं के निर्माण में सहायक होता है। एनीमिया पीड़ित को प्रतिदिन अंडा का सेवन करना चाहिए। पीनट बटर में पर्याप्त मात्रा में आयरन होता है। प्रतिदिन 2 चम्मच पीनट बटर का सेवन करने से शरीर में आयरन की मात्रा को बढ़ाया जा सकता है।खजूर ,किशमिश, सूखी खुबानी और आडू जैसे फल आयरन और विटामिन सी से भरपूर होता है। विटामिन सी रक्त के जरिए आयरन के अवशोषण में मदद करता है। अनार विटामिन सी और फोलेट का अच्छा स्रोत है या आयरन के अवशोषण में भी मदद करता है। सूखे मेवे ,अखरोट, मूंगफली, पिस्ता आयरन के अच्छे स्रोत है। या आयरन के स्तर को बढ़ाने में काफी मददगार है। अपने नाश्ते में हल्के भोजन के रूप में इसका इस्तेमाल करना चाहिए।मछली में भी आयरन होता है जो शरीर में शीघ्र अवशोषित होता है। एनेमिया लोगों को समुंद्री मछली को आहार में शामिल करना चाहिए हैं।

 

 

एनिमिया के मुख्य कारण

 

इसका मुख्य कारण है लौह तत्व वाली चीजों का उचित अनुपात में सेवन ना करना ,फोलिक एसिड एवं रक्त में विटामिन B12 की कमी हो जाना, मलेरिया के बाद लाल रक्त कोशिकाओं का नष्ट हो जाना,किसी भी कारण रक्त की कमी, शरीर से खून निकालना, शौचालय बार बार जाना,उल्टी ,खांसी के साथ खून आना ,माहवारी में अधिक खून रिसना, पेट के कीड़े एवं परजीवियों के कारण खूनी दस्त, पेट के अल्सर से खून आना, बार-बार गर्भधान करना दी।

इन्हीं सब कारणों से एनीमिया की कमी हो जाती है हमारे शरीर में। हमें इन बातों का खास खयाल रखना चाहिए।

 

16 Comments on “Prevention of anemia”

  1. I want to get across my love for your kind-heartedness in support of visitors who must have assistance with in this study. Your special dedication to passing the solution along had been certainly functional and has really made many people much like me to get to their pursuits. Your amazing invaluable guideline signifies a whole lot to me and even further to my mates. Best wishes; from each one of us.

  2. I simply desired to thank you very much once again. I’m not certain the things that I might have done in the absence of the creative ideas provided by you on that theme. Entirely was a very intimidating scenario in my circumstances, however , observing a specialised approach you managed that forced me to cry over fulfillment. I’m happy for this help as well as pray you realize what a great job you’re getting into instructing the mediocre ones through your webpage. Most likely you have never got to know any of us.

  3. Hello there I am so grateful I found your blog page, I really found you by accident, while I was looking on Aol for something else, Anyhow I am here now and would just like to say thanks a lot for a remarkable post and a all round enjoyable blog (I also love the theme/design), I don’t have time to read through it all at the moment but I have book-marked it and also added in your RSS feeds, so when I have time I will be back to read much more, Please do keep up the excellent work.|

  4. I precisely wanted to say thanks all over again. I do not know the things that I would’ve handled without the entire secrets discussed by you relating to such field. It seemed to be a very frightening case in my view, however , encountering the specialized technique you solved that made me to jump for joy. Now i’m happy for your guidance and sincerely hope you realize what a great job that you are providing teaching people through your web site. I am sure you have never come across all of us.

  5. I’m still learning from you, as I’m making my way to the top as well. I certainly love reading everything that is written on your blog.Keep the tips coming. I loved it!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *