Hepatitis

                                 हेपेटाइटिस(hepatitis)

डॉ.का कहना है वायरल हेपेटाइटिस-ए और ई गंदगी के कारण फैलता और होता है। इसलिए साफ पानी और शुध्द भोजन करना चाहिए।
सरकार ने हेपेटाइटिस बिमारी फैलने के खिलाफ एक ठोस कदम उठाया है। राष्ट्रीय सवास्थ्य अभियान के तहत नेशनल वायरल हेपेटाइटिस कंट्रोल प्रोग्राम( एन वी एच सी पी) शुरू किया है। इस एन वी एच सी पी में दो जरुरी बातें है और उसे लागू भी किया गया है। इसमे ऐसे लोगों का मुफ्त इलाज करना था जिसे हेपेटाइटिस बिमारी होने का शक था या इस बिमारी से पीड़ित थे और मुफ्त इलाज और आजीवन मुफ्त दवाई उपलब्ध कराना था। हेपेटाइटिस बिमारी को रोकने के लिए सभी जरुरी कदम उठाये गए।
1:-एन वी एच सी पी को प्रोमोट करना
2:-गभ्रवती महिलाओं को टीकाकरण करना और
3:-वायरस के बारे में लोगों को बताना और इस से बचने का उपाय
वर्ष 2030 तक हेपेटाइटिस-सी से पिडीत मरीजों को छुटकारा दिलाने और इस वायरस को जड़ से हटाने के लिए उठाया गया कदम पूरा हो जाएगा।
हेपेटाइटिस ए और इ के परमुख कारण और बचाओ
डॉ.का कहना है कि हेपेटाइटिस ए और इस साफ सफाई का गलत इस्तेमाल करने से होता है। इसलिए भारत सरकार ने सवच्छ भारत अभियान शुरू की है और खुले में शौच करने से रोका गया है और गांव के हर घर तक शोचालय बनवाने का अभियान शुरू किया गया है। इस अभियान पर एक फिल्म भी बनी (bollywood) है। शौच किसी भी Infection का कारण होता है। लोग इसके चपेट में आ ही जाते है कयोकि वे अपने हाथ ठीक से नहीं धुलते। कचरा ढोने वाला हमेशा गंदगी के आसपास ही रहता है। ये सब हेपेटाइटिस ए-ई होने के कारण है
हेपेटाइटिस बी और सी के Infection की वजह और कारण
हेपेटाइटिस बी और सी एक चुनौती है कयोकि ये आईवी फलूअड सुई चुभोने के कारण होता है डा.के मुताबिक मरीज को अगर हेपेटाइटिस है और वो अपना खून किसी को दे रहा है तो इससे भी Infection फैल सकता है। -गभ्रवती माँ से Infection उसके बच्चे में भी फैल सकता है। अपनी हाथों को अच्छी तरह धो लेना चाहिए।
ग़लव्स पहनें और सफाई का खास खयाल रखे। भारत में इंजेक्शन सही तरीके से न लगाने के कारण 2.2 करोड़ के आसपास हेपेटाइटिस बी और 19.20 लाख के आसपास हेपेटाइटिस सी सिर्फ Infection होने के कारण पाया गया है। ये गाइडलाइन पहले सुरक्षाकर्मियों, लैब कर्मियो के लिए थी के वे धयान से टिकाकरण कराएं और खास खयाल रखे। दसताने पहने और मासक लगाएं ताकि स़टाफ के जरिये ये Infection मरीज से किसी और को न हो जाए। अगर सही तरीके से आराम किया जाए और सही दवा ली जाए तो हेपेटाइटिस ए-ई की बीमारी 30-35 दिनों में ठीक हो जाता है। हेपेटाइटिस सी बहुत आम नहीं पर भारत में हेपेटाइटिस डी की बीमारी होना आम बात है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *