Heart patients survive in winter

Heart patients survive in winter

सर्दी में हृदय के मरीज बच कर रहें

 

सर्दी के मौसम में ठंड लगना, कंपकंपी, खांसी– जुकाम तो आम बात है। इसके अलावा कुछ अन्य समस्याओं का सामना भी करना पड़ता है।जिसमें हाइपोथर्मिया, निमोनिया, कोल्ड फ्लू, चिलब्लेन आदि प्रमुख है। इसके अलावा दो गंभीर समस्याएं हो सकती है वह है हार्ट अटैक का और ब्रेन स्ट्रोक इसके लिए सर्दी के दिन में हृदय रोगियों को अपना खास ख्याल रखना चाहिए। इस मौसम में सावधानी न बरतने के कारण करीब 25 फ़ीसदी तक हृदय रोगियों की संख्या बढ़ जाती है।दरअसल सर्दी में तापमान कम होने से रक्तनलिकाएं संकरी हो जाती है। संकरी धमनियों से रक्त के संचरण के लिए अधिक बल की आवश्यकता होती है। इसे रक्तचाप बढ़ जाता है। सर्दी में रक्त के गाढ़ा और स्टिकी हो जाने के कारण हृदय की धमनियों में रक्त के थक्के जमने की आशंका भी बढ़ जाती है।सर्दी में पसीना आमतौर पर नहीं निकलता है। इससे फेफड़ों में अतिरिक्त पानी फेफड़ों में जमा हो जाता है। इसके कारण Heart failure का खतरा बढ़ जाता है। जिन्हें परेशानी पहले से है उनके लिए यह जानलेवा भी हो सकता है।

 

Hypothermia

 

यह ऐसी अवस्था है जिसमें बॉडी का टेंपरेचर सामान्य से कम हो जाता है। इसके कारण शरीर एकदम ठंडा पड़ जाता है। हृदय गति और सांस गति धीमी पड़ जाती है और जब आप घर से बाहर निकलते हैं या फिर पानी के संपर्क में आते हैं तो आपको सामान्य से अधिक ठंड लगती है। इसके कारण शरीर में थरथराहट थकान के साथ बार-बार पेशाब महसूस होता है।इलाज जल्द शुरू ना किया जाए तो व्यक्ति की मौत भी हो सकती है। इससे बचने के लिए गर्म खाद्य पदार्थ खाना चाहिए। अधिक ठंड लगने पर घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए और स्थिति गंभीर होने पर तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

 

बरतें सावधानियां

 

हृदय रोगी, बीपी और ब्लड शूगर के मरीज अधिक ठंड में बाहर ना निकले यह नियम अस्थमा और सीओपीडी के मरीज के साथ भी लागू होता है। पूरे बदन गर्म कपड़े पहने और अंकुरित अनाज ले।

 

बचाव के तरीके

 

:— ठंड के शुरुआत से ही बचाव जरूरी है। क्योंकि मौसम में लगातार उतार-चढ़ाव का असर आपके स्वास्थ्य पर पड़ता है।

 

:— पूरे कपड़े पहने सिर और कान को भी ढक कर रखें ताकि ठंड हवा ना लग पाए।

 

:— बुजुर्गों का खास ख्याल रखने की जरूरत होती है ठंड के मौसम में।

 

:— इस मौसम में शराब का सेवन ना करें।

 

:— ठंड से बचाव के लिए Oil Heart का उपयोग कर सकते हैं पर अंगेठी और गर्म करने वाले संसाधन हानिकारक हो सकते हैं।

 

:— उच्च रक्तचाप के रोगी नियमित रूप से ब्लड प्रेशर की जांच कराते रहें और दवा की मात्रा को लेकर एक बार चिकित्सक से सलाह जरूर लें।

 

:— हृदय रोगियों और एंजाइना के मरीज को भी नियमित रूप से डॉक्टर से सलाह लेते रहना चाहिए।

 

:— ठंड में निमोनिया का खतरा भी अधिक रहता है। इससे बचाव के लिए टीका जरूर लगवाएं।

 

:— यदि सीने में भारीपन या बैठे-बैठे की दर्द की शिकायत हो(खासकर सुबह के 3-4 बजे) तो हृदय रोग विशेषज्ञ से तुरंत सलाह लें।

 

     ये न करें

 

:— ठंड से बचाव के लिए शराब का सेवन बिलकुल ही ना करें।

 

:— सुबह के समय टहलने वाले हृदय रोगी सूर्योदय के बाद ही टहलने के लिए निकले।

 

:— अत्यधिक ठंड होने पर हृदय रोगी के साथ आम लोग भी बाहर ना निकले।

 

 

:— वैसे कपड़े ना पहने जिसे जरूरत से ज्यादा गर्मी पैदा हो और पसीना चलने लगे क्योंकि ऐसे में आप अक्सर कपड़े उतार देते हैं और ठंड की चपेट में आने की आशंका बढ़ जाती है।

 

नोट:— बुजुर्गों के लिए हृदय रोगियों के लिए और गरीबों के लिए यह मौसम अच्छा नहीं है। पर क्या करे इस मौसम का मालिक इश्वर है!

 

 

182 Comments on “Heart patients survive in winter”

  1. Hey There. I found your blog using msn. This is a very well written article. I’ll make sure to bookmark it and return to read more of your useful information. Thanks for the post. I’ll definitely return.|

  2. Thanks for the marvelous posting! I actually enjoyed reading it, you might be a great author. I will be sure to bookmark your blog and may come back someday. I want to encourage you to ultimately continue your great writing, have a nice weekend!|

  3. Hi there I am so glad I found your web site, I really found you by error, while I was researching on Google for something else, Anyways I am here now and would just like to say thank you for a tremendous post and a all round entertaining blog (I also love the theme/design), I don’t have time to read it all at the minute but I have book-marked it and also included your RSS feeds, so when I have time I will be back to read more, Please do keep up the awesome jo.|

  4. Helpful info. Lucky me I discovered your website unintentionally, and I am shocked why this coincidence did not took place in advance! I bookmarked it.|

  5. My spouse and i still cannot quite believe I could always be one of those reading through the important tips found on your blog. My family and I are truly thankful for your generosity and for offering me the opportunity to pursue our chosen profession path. Appreciate your sharing the important information I acquired from your website.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *