GOOD QUEOTS

Good Queots

चिड़िया को देख वो बोली, पापा मुझे भी पंख चाहिए, पापा मन ही मन बोले पंख ना होते हुए भी उङ जायेगी एक दिन।
—: भूल जाते हैं अक्सर वह लोग हमें, जिनके लिए हम पूरी दुनिया को भूल जाते हैं।
—: जहां सफाई देनी पड़ जाए हर बार, वह रिश्ते कभी गहरे नहीं होते।
—: आंसू मुस्कुराहट से ज्यादा खास होते हैं क्योंकि मुस्कुराहट तो हर किसी के लिए होती है मगर आंसू उनके लिए होते हैं जिन्हें हम खोना नहीं चाहते।
—: कुछ लोगों को कितना भी समझाने या अपना बनाने की कोशिश करो वह साबित कर देते हैं कि वह गैर हैं।
—: ना जाने क्यों रेत की तरह हाथों से निकल जाते हैं लोग जिन्हें हम जिंदगी समझकर कभी खोना नहीं चाहते।
—: अगर फुर्सत के लम्हों में मुझे याद करते हो तो अब मत करना क्योंकि मैं तन्हा जरूर हूं मगर फिजूल बिल्कुल भी नहीं।
—: झूठी मोहब्बत मीठी बातें साथ निभाने की कसमें कितना कुछ करते है लोग सिर्फ वक्त गुजारने के लिए।
—: इस मोहब्बत की किताब के बस दो ही सबक याद हुए कुछ तुम जैसे आबाद हुए कुछ हम जैसे बर्बाद हुए।
—: वादों और यादों में फर्क इतना है वादे इंसान तोड़ता है और यदि इंसान को तोड़ देती है।
—: मेरी मोहब्बत सच्ची है इसलिए तेरी याद आती है अगर तेरी बेवफाई सच्ची है तो अब याद मत आना।
—: किसी को इतना भी ना चाहो कि भुला ना सको क्योंकि जिंदगी इंसान और मोहब्बत तीनो बेवफा है।
—: कोई हालात को नहीं समझता, तो कोई जज्बात को नहीं समझता, यह तो बस अपनी-अपनी समझ है तो कोई पूरी किताब नहीं समझता।
—: कदर करना सीख लो क्योंकि ना जिंदगी वापस आती है ना जिंदगी में आए हुए लोग।
—: इंसान जिंदगी में सब कुछ भूल सकता है पर किसी का दिया हुआ धोखा कभी नहीं भूलता।
—: इंसान की फितरत है वह किसी की भी कदर सिर्फ दो वक्त पर करता है एक तो मिलने से पहले और एक खोने के बाद।
—: जिनकी आंखे बात बात पर नम हो जाती है वह लोग कमजोर नहीं दिल के सच्चे होते हैं।
—: कुछ अजीब है दुनिया यहां झूठ से नहीं सच बोलने से रिश्ते टूट जाते हैं।
—: वक्त सबको मिलता है जिंदगी बदलने के लिए पर जिंदगी दोबारा नहीं मिलती वक्त बदलने के लिए।
—: उदास रात, उदास जिंदगी, उदास वक्त, उदास मौसम, कितनी चीजों पर इल्जाम लग जाता है दिल के उदास होने से।
—: कोई आपका दिल दुखाए तो बुरा मत मानना क्योंकि कुदरत का नियम है कि जिस पेड़ पर सबसे अधिक मीठे फल होते हैं उसको ही सबसे अधिक पत्थर पड़ता है।
—: इंसान सिर्फ एक कारण से अकेला पड़ जाता है जब उसके अपने ही उसे गलत समझने लग जाते हैं।
—: बस कंडक्टर की भी जिंदगी अजीब है सफर रोज करते हैं पर जाना कहीं नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *