Footwear Technology

                     Footwear Technology

 

स्टाइलिश और कंफट्रैवल हर किसी की जरूरत है इसके लिए कई बड़ी कंपनियां बाजार में मौजूद है जो फुटवियर टेक्नोलॉजी प्रोफेशन को आगे बढ़ाने का मौका देती है। फुटवियर टेक्नोलॉजी में कोर्स और करियर के बारे में आइये हम कुछ बातें करते हैं।

 

प्रतिस्पर्धा के इस दौर में अपने प्रोडक्ट की लोकप्रियता को बनाए रखने के लिए फुटवियर कंपनियां नई तकनीक और मशीनरी को अपना रही है।दरअसल ग्राहक अब फुटवियर चुनते समय डिजाइन के साथ उसकी गुणवत्ता को भी तरजीह देते हैं खिलाड़ी हो सेलिब्रिटी हो या स्कूल जाने वाले बच्चे हो या आम लोग सब को अपने अनुकूल फुटवियर चाहिए। इसके लिए कंपनियों को फुटवियर टेक्नोलॉजी एवं डिजाइनिंग के पेशेवरों की जरूरत होती है। फुटवियर निर्माण के क्षेत्र में कई बड़ी कंपनियां मौजूद है जो फुटवियर टेक्नोलॉजी का कोर्स कराने वालों को जॉब के बेहतरीन मौके देती है।

 

 

                  Footwear Technology

 

 

फुटवियर टेक्नोलॉजी जूतों के निर्माण की तकनीक पुननिर्माण और डिजाइनिंग आदि से संबंधित कार्य क्षेत्र हैं।आज बाजार में डिजाइनर, स्पोर्ट्स,डेली वियर समेत तमाम तरह की जूते मिलते हैं। इन्हें बनाने में अलग-अलग टेक्नोलॉजी एवं सुरक्षा मानकों का इस्तेमाल किया जाता है। फुटवियर टेक्नोलॉजी के पेशेवर लोग इस जरूरत को ध्यान में रखकर मैन्युअल या सॉफ्टवेयर पर जूतों का पैटर्न और स्केच डिजाइन करते हैं साथ ही यह तय करते हैं कि उस फुटवियर को बनाने में लेदर, जूट, और धातु जैसी कई सामग्रियों का किस तरह उपयोग किया जाएगा? इसके बाद प्रोडक्शन का काम शुरू होता है फिर क्वालिटी चेकिंग होती है इस तरह हर स्तर के लिए एक ट्रेंड और स्किल्ड प्रोफेशनल से काम लिया जाता है।

 

               आप कब कर सकते हैं शुरुआत

 

आपका अगर तकनीक में रुझान है साथ ही आप थोड़े रचनात्मक भी है तो फुटवियर टेक्नोलॉजी डिजाइनिंग में करियर बनाने की दिशा में आगे बढ़ सकते हैं। देश के कई इंस्टिट्यूट फुटवियर टेक्नोलॉजी एवं डिजाइनिंग में डिप्लोमा, पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा, ग्रेजुएशन एवं पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स संचालित करते हैं। आप बारहवीं या ग्रेजुएशन के बाद फुटवियर टेक्नोलॉजी में कोर्स कर सकते हैं।

 

         Institution and course(संस्था एवं कोर्स)

 

:— सेंट्रल लेदर रिसर्च इंस्टीट्यूट चेन्नई- कैड कोर्स फॉर फुटवियर डिजाइन।

 

:— सेंट्रल फुटवियर ट्रेंनिंग इंस्टीट्यूट आगरा एवं चेन्नई— डिप्लोमा एंड पोस्ट डिप्लोमा इन फुटवियर टेक्नोलॉजी।

 

:— नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ फैशन टेक्नोलॉजी दिल्ली— बैचलर इन फुटवियर डिजाइन।

 

:— हर कोर्ट बटलर टेक्नोलॉजिकल इंस्टीट्यूट कानपुर— लेदर टेक्नोलॉजी में बीटेक

 

:— कॉलेज ऑफ लेदर टेक्नोलॉजी —सर्टिफिकेट कोर्स ऑफ लेदर शूज एंड लेदर गुड्स मेकिंग लेदर टेक्नोलॉजी में बीटेक एमटेक।

 

                      आगे बढ़ने के मौके है यहां

 

फुटवियर इंडस्ट्री में डिजाइनिंग टेक्निकल एवं मैनेजमेंट के क्षेत्र में रोजगार की बेहतरीन संभावनाएं हैं इस इंडस्ट्री में फुटवियर टेक्नोलॉजिस्ट, फुटवियर डिजाइनर, प्रोडक्ट डेवलपर, प्रोडक्ट डेवलपमेंट मैनेजर, क्वालिटी कंट्रोलर आदि के तौर पर केरियर बनाने के मौके मौजूद हैं।कोर्स के बाद आप किसी भी फुटवियर कंपनी में बतौर इंटर्न शुरुआत कर सकते हैं। अनुभव के बाद आपको आगे बढ़ने के अच्छे मौके मिलेंगे पेशेवरों को ग्लोबल ब्रांड हाउस एवं अंतर्राष्ट्रीय शूज कंपनियां भी जॉब के बेहतरीन अवसर देती रहती है।

 

अगर हमने जुनून है तो हमें कामयाब होने से कोई नहीं रोक सकता

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *